jese nahi bah jati hai or lautkar nahi aati

जैसे नदी बह जाती है और लौटकर नहीं आती, उसी प्रकार रात और दिन मनुष्य की आयु लेकर चले जाते हैं, फिर नहीं आते।

– महाभारत