darpok praniyo me satya bhi

डरपोक प्राणियों में सत्य भी गूंगा हो जाता है |

– प्रेमचंद