हो परिवार धरती सारी ना कोई हो पराया

हो परिवार धरती सारी ना कोई हो पराया
मिटा दे सरहदो की जंग बन जाये हमसाया
कोई ना भूखा सोये जाये ना दर से खाली
इस बार विश्व ऐसी मनाये दीवाली…