Monthly Archives: August 2018

Nice Line – मिली थी जिन्दगी किसी के ‘काम’ आने के लिए

?? Nice Line..!??
_________

? मिली थी जिन्दगी
किसी के ‘काम’ आने के लिए।?

? पर वक्त बीत रहा है,
कागज के टुकड़े कमाने के लिए।?

? क्या करोगे,
इतना पैसा कमा कर..????

? ना कफन मे ‘जेब’ है,
ना कब्र मे ‘अलमारी..!’?

? और ये मौत के फ़रिश्ते तो
‘रिश्वत’ भी नही लेते ।?

? खुदा की मोहब्बत को
फना कौन करेगा ??

? सभी बंदे नेक तो
गुनाह कौन करेगा ??

? “ऐ ख़ुदा मेरे इन दोस्तों को
सलामत रखना…?

? वरना मेरी सलामती की
दुआ कौन करेगा ???

? और रखना मेरे
दुश्मनो को भी महफूज़…?

? वरना मेरी, तेरे पास आने की
दुआ कौन करेगा ?”?

?z ख़ुदा ने मुझसे कहा,
“इतने दोस्त ना बना
तू धोखा खा जायेगा”?

? मैने कहा –
“ए खुदा,
तू ये मैसेज पढ़नेवालों से
मिल तो सही,?

? तू भी धोखे से
दोस्त बन जायेगा”??

? नाम छोटा है
मगर दिल बड़ा रखता हूँ ।?

? पैसोँ से उतना
अमीर नही हूँ ।?

? मगर अपने यारों के
ग़म खरीदने की
हैसियत रखता हूँ ।?

? मुझे ना हुकुम का इक्का बनना है
ना रानी का बादशाह ।?

? हम जोकर ही अच्छे हैं
जिसके नसीब में आऐंगे, ?

? बाज़ी पलट देंगे||
♣ ♥ ♠ ♦ ?
Mujhe bhi sand karna agar mujhe apna friend mante ho to

i love friend

सुप्रभात – Good morning

करते है मोल भाव भगवान
की मूर्ति खरीदते वक़्त

और फिर उसी मूर्ति से घर में
करोडो मांगते है… !!!

ये नादानी भी,
सच मे बेमिसाल है…!*

अंधेरा दिल मे है,
और दिये मन्दिरों मे जलाते हैं.

सुप्रभात??

??????????
रहे सलामत ज़िंदगी उनकी,
जो मेरी ख़ुशी की फरियाद करते हैं;

ऐ भगवान उनकी ज़िंदगी खुशियों से भर दे,
जो मुझे याद करने के लिए अपना एक पल बर्बाद करते हैं;
?सुप्रभात?

???Good morning ji???

मैने पुछा भगवान से
कैसे करूं तेरी पूजा

भगवान बोले ,

“खुद भी तु मुस्कुरा
औरो को भी मुस्कुराने
की वजह दे”

बस हो गई मेरी पूजा
शुभ प्रभात
??

शीशा और रिश्ता दोनों ही
बडे़ नाजुक होते हैं ,
दोनों में सिर्फ एक ही फर्क है,
शीशा ” गलती ” से टूट जाता है
और रिश्ता ” गलतफहमियों ” से!

ये जिन्दगी.
एक अजीब सी दौड़ है
जीत जाओ …..
तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं
और हार जाओ तो …..
अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं